• Publisher's Desk
  • Hindi - हिंदी
  • एसबीएनआर के लिए पांच सुझाव
  • एसबीएनआर के लिए पांच सुझाव


    | english |

    प्रकाशक के डेस्क से : एसबीएनआर के लिए पांच सुझाव

    द्वारा सतगुरु बोधिनाथा वेलनस्वामी
    हाल के दशकों में , ऐसे व्यक्तियों के समूह जो खुद को “आध्यात्मिक लेकिन धार्मिक नहीं” [एसबीएनआर ] के रूप में अपनी पहचान करवाते हैं , नाटकीय रूप से बढ़ गए हैं। हमारे जुलाई 2017 के अंक में , लेखक लॉरेन वैलेंटिनो नें साझा किया कि संयुक्त राज्य अमेरिका में 20 प्रतिशत लोग एसबीएनआर के रूप में अपनी पहचान करवाते हैं। अमेरिका के युवा लोगों में , एक आश्चर्यजनक 62 प्रतिशत अपने आप को आध्यात्मिक मानते हैं लेकिन धार्मिक नहीं। विकिपीडिया एक कड़क परिभाषा प्रदान करता है : “आध्यात्मिकता की जीवन शैली एक संगठित धर्म को चुनौती देती है स्वयं को एकमात्र आध्यात्मिक विकास का माध्यम बताते हुए। आध्यात्मिकता ‘मन -शरीर -आत्मा’ के कल्याण पर ज़ोर देती है , इसीलिए ताई ची, रेकी और योग जैसे समग्र गतिविधियां एसबीएनआर आंदोलन के भीतर आम हैं।”
    अपने को एसबीएनआर के रूप में पहचान करवाने के कारण व्यापक रूप से भिन्न होते हैं, लेकिन एक आम विवरण यह है कि किसी परिवार का धर्म उच्च चेतना के अनुभव की ओर नहीं ले जाता, किसी की सहज आध्यात्मिकता और ईश्वर के साथ एकता एक सर्व भूत, प्रेमपूर्ण चेतना की ओर। वास्तव में , जिस धर्म में जन्म हुआ है, वह इस तरह के कार्यों के अत्यधिक विरोध में हो सकता है। इसलिए, जब आध्यात्मिकता में गहरी व्यक्तिगत रूचि हो , तो ऐसे धर्मों से अलग होना तार्किक है।
    तथ्य यह है कि , एसबीएनआर के रूप में पहचाने जाने वाले उन्नीस लाख युवा अमेरिकी उन विश्वासों और प्रथाओं का पालन करते हैं , जो अक्सर , अनजाने में हिन्दू धर्म से मिलता जुलता है। यह एक आश्चर्य के रूप में नहीं आना चाहिए , यह ध्यान में रखते हुए कि पश्चिम का भारत की प्राचीन शिक्षा के प्रति आकर्षण और यह वास्तविकता कि हिन्दू धर्म में धर्म और आध्यात्मिकता के बीच लगभग कोई विभाजन नहीं है।
    हिन्दूइज़्म के युवा का अपना स्वयं का एक एसबीएनआर का बढ़ता हुआ समूह है। मैंने काफी सारे लोगों से मुलाकात की है , जो अधिकतर बीस वर्षो वाले आयु समूह के थे। हालाँकि वे समझते हैं कि हिन्दूइज़्म के भीतर ही कई आध्यात्मिक मार्ग हैं , उन्होंने हिन्दू मंदिरों में आयोजित धार्मिक समारोहों में भाग नहीं लेने
    का फैसला किया है , क्योंकि उन्हें ऐसा करने में कोई मूल्य नहीं दिखता है। वे अभी भी आध्यात्मिक व्यक्ति बनने की काफी चाह रखते हैं। एक समृद्ध घर में हो रहे सत्संग में एक जवान आदमी नें पूछा , “मुझे मंदिर में शामिल होने में आनंद नहीं आता और इसलिए नहीं जाता। क्या यह उचित है ?” मैनें उससे कहा , हाँ यह ठीक है। में अपने गुरु की तरह , सप्ताह में एक बार मंदिर जाने के लिए हिन्दुओं को प्रोत्साहित करता हूँ , किन्तु बहुत से अच्छे हिन्दू हैं जो ऐसा नहीं करते। हमारे विश्वास में मंदिर की पूजा आध्यात्मिकता को आगे बढ़ाने का एकमात्र तरीका नहीं है। मेरे गुरु सिवाय सुब्रमुनियस्वामी नें इस सवाल का एक शानदार जवाब दिया था : “हिन्दूइज़्म एक धर्म है जो सिद्धांत के मुकाबले अनुभव ज़्यादा है। यह अपने अनुयायियों से कहना पसंद करता है , ‘यह सत्य की प्रकृति है , और यह वे साधन हैं जिनके द्वारा सत्य को महसूस किया जा सकता है। यहाँ परम्पराएं हैं जो समय पर खरी उतरी हैं और अत्यधिक प्रभावी साबित हुईं हैं। अब आप उन्हें अपने जीवन में जाँच सकते हैं, उन्हें स्वयं के लिए साबित कर सकते हैं। और हम जितनी मदद कर सकते हैं वो करेंगे।’ हिन्दूइज़्म कभी नहीं कहेगा , ‘ आपको ऐसा करना चाहिए या इस तरह विश्वास करना चाहिए अन्यथा आपकी निंदा होगी।”
    वे एसबीएनआर जो हिन्दू दृष्टिकोण का पालन करते हुए इस जीवनकाल में गंभीरता से आध्यात्मिक प्रगति करने की इच्छा रखते हैं , उनके लिए मैं पांच सुझाव प्रदान करता हूँ।

    1 ) मौजूदा आध्यात्मिक साहित्य का अध्ययन करें


    एक सामान्य एसबीएनआर दृष्टिकोण है बिना दूसरों द्वारा अतीत में किये गए अनुभव किये अकेले ही आगे जाना। में इस रणनीति के खिलाफ सलाह देता हूँ। आध्यात्मिकता ज्ञान के किसी भी क्षेत्र की तरह है। हम ज़्यादा तरक्की कर सकते हैं अगर हम दूसरों नें जो कुछ हासिल किया है उसको समझें और उससे फायदा उठाएं , बनिस्पत इसके कि सबकुछ अपने आप जानने की कोशिश करें. हिन्दू शिक्षाओं के कुएं में गहरा गोता लगाएं , जिन्हें मेरे गुरु नें निम्नानुसार प्रशंसा की : “ हिन्दू धर्म में गूढ़ रहस्यों का जो भंडार है उसका कोई मुकाबला नहीं है। इसके समान कुछ हो वो मेरे संज्ञान में नहीं है। इसमें सम्पूर्ण योग की प्रणाली , ध्यान एवं चिंतन , और आत्म प्राप्ति शामिल हैं। किसी भी अन्य जगह पर मनुष्य किए आंतरिक शरीरों , सूक्ष्म प्राणों और चक्रों , या फिर तांत्रिक तंत्र के भीतर के मानसिक केंद्रों का अंतर्दृष्टिपूर्ण प्रकाशन नहीं है। हिन्दूइज़्म में परम चेतना की आंतरिक स्थितियों को खोजा और नक्शा खींचा गया है, स्पष्ट सफ़ेद रौशनी से ले कर दृश्यों एवं ध्वनियों तक जो मनुष्य की आंतरिक चेतना को पूर्णतया डुबो कर उसे जागृत कर देते
    आध्यात्मिकता के साहित्य का अध्ययन करने के बाद , एक प्रणाली का चयन करें और दृढ संकल्प के साथ उसका पालन करें। इसकी तुलना हम भारतीय शास्त्रीय नृत्य के सीखने से कर सकते हैं। आठ रूपों को व्यापक रूप से स्वीकार किया जाता है: भरतनाट्यम, कथक, कुचीपुडी, ओडिसी, कथकली, सत्रिया, मणिपुरी और मोहिनीयाट्टम। एक महत्वाकांक्षी नृत्य छात्र के लिए, एक ही समय में दो, तीन या चार का अभ्यास करने के बजाए एक प्रणाली को चुनकर और उसके पीछे लग कर सबसे बड़ी प्रगति की जा सकती है।

    3) एक योग्य शिक्षक के साथ अध्ययन करें


    After studying the literature of spirituality, choose one system and follow it with determination. We can compare this to taking up Indian classical dance. Eight forms are broadly acknowledged: Bharatanatyam, Kathak, Kuchipudi, Odissi, Kathakali, Sattriya, Manipuri and Mohiniyattam. For an aspiring dance student, the greatest progress would be made by choosing and pursuing one system rather than dabbling in two, three or four at the same time.
    हैं।” इन ख़ज़ानों को अनदेखा करना निश्चित रूप से उस आध्यात्मिक तरक्की को सीमित कर देगा, जो एक व्यक्ति कर सकता है।

    2 ) एक प्रणाली को चुनें और उसको फिर उसे पकड़ के रखें


    एक तीसरा सुझाव एक गुरु चुनना है जो आपके द्वारा चुनी गयी प्रणाली में पारंगत है। जब मुझसे पूछा जाता है, "क्या एक गुरु आवश्यक है?" मैं अक्सर पूछते हुए जवाब देता हूं: "क्या आपको भक्ति गीत गाने के लिए शिक्षक की आवश्यकता है?" फिर मैं यह कहकर जवाब देता हूं, "कोई भी शिक्षक के बिना सरल भक्ति भजन गा सकता है । हालांकि, यदि आप अधिक कठिन हिंदू शास्त्रीय गीतों पर महारत हासिल करना चाहते हैं, तो एक शिक्षक निश्चित रूप से जरूरी है।” स्वस्थ आहार रखने, ध्यान करने, नियमित रूप से पूजा करने और पवित्र शास्त्र पढ़ने से आप आध्यात्मिक प्रगति कर सकते हैं। लेकिन यदि आप इस जीवनकाल में अपनी प्रगति को अधिकतम करना चाहते हैं, तो आपको एक शिक्षक की आवश्यकता होती है। गुरु होने के पांच लाभ यहां दिए गए हैं।

    सबसे पहला, गुरु मुश्किल समय में भी प्रयास करने और आगे बढ़ने के लिए प्रोत्साहित करता है। हमारे मार्गदर्शक के रूप में, वह हमें अधिक प्राप्त करने में मदद करता है जो हम वैसे नहीं कर पाते।
    दूसरा, गुरु हमें आध्यात्मिक आत्म-अवधारणा विकसित करने में मदद करता है। जो भी आत्म अवधारणा हम उसके समक्ष लाते हैं-चाहे वह स्वयं के प्रति संदेह हो या स्वयं की महानता में गर्व हो- गुरु हमें इससे आगे बढ़ने में मदद करता है और वास्तव में स्वयं की एक दिव्य आत्मा होने की पहचान करवाता है।
    तीसरा, प्राचीन सत्यों को सुना कर , गुरु व्यक्तिगत, जीवित अंतर्दृष्टि प्रदान करता है जो उस समझ से परे ले जाती है जो समझ पुस्तकें पढ़ने से प्राप्त होती है।
    चौथा, गुरु हमारे कमजोर क्षेत्रो पर ध्यान केंद्रित करके हमें अपने व्यवहार में सुधार करने में मदद करता है और हमें दिशानिर्देश देता है कि हमें कैसे व्यवहार करना चाहिए, हमें कैसे दुनिया से संबंधित होना चाहिए।
    पांचवें, उन्नत छात्रों के लिए, वह दीक्षा देता है , जिससे तीव्रता से वे स्वयं को व्यक्त कर सकें कर और अपने जीवन में दिव्य आशीर्वाद प्राप्त कर सकें।

    4) दैनिक अभ्यास करें

    इस प्रश्न का एक शब्द में जवाब क्या है "क्या आप एक अच्छा नर्तक बनने के लिए आवश्यक गुण का नाम दे सकते हैं?" हर कोई जिससे मैं पूछता हूं वह जवाब जानता है: अभ्यास! एक उत्कृष्ट नर्तक बनने के लिए, आपको हर दिन अभ्यास करना चाहिए। मोक्ष के लिए आध्यात्मिक यात्रा वही है। हम अभ्यास, दैनिक अभ्यास, बराबर अभ्यास के माध्यम से आगे बढ़ते हैं।
    मैं किसी को भी अपने घर में एक मंदिर स्थापित करने के मार्ग के बारे में गंभीरता से प्रोत्साहित करता हूं, आदर्श रूप से केवल पवित्र गतिविधियों के लिए उपयोग किए जाने वाले विशेष कमरे में। इसे अपनी शरण बनाएं, अपने भीतर के लिए एक प्रवेश द्वार , आध्यात्मिक पढ़ने, चिंतन, गायन, जप , ध्यान और पूजा के लिए अपनी जगह बनाएं। हर दिन एक सतर्कता रखें, भले ही यह केवल दस मिनट हो। एक आदर्श सत्र आधे घंटे है और सुबह का सबसे अच्छा समय है।

    5) भक्ति पैदा करें


    धर्म के विचार से असहज लोगों के लिए, मैं कहूंगा कि मंदिर, चर्च या अन्य धार्मिक भवन में आयोजित पारंपरिक समारोहों और धार्मिक होने की अवधारणा के बीच अंतर करना महत्वपूर्ण है- जो कि दिव्य के प्रति
    व्यक्तिगत भक्ति है, आप उस परम पावन को जैसे भी परिभाषित करते हैं। व्यापक रूप से, भक्ति सभी मौजूद चीजों के लिए एक गहरा सम्मान है, एक स्थायी प्रशंसा, पूजा और श्रद्धायुक्त भय। मेरे गुरुदेवा ने समझाया, "जब आपके पास भक्ति और प्यार की ऊर्जा होती है , आपके शरीर के माध्यम से बहती है, ध्यान आसान होता है ... भक्ति का अनुभव प्राण को निम्न चक्रों से उच्च चक्रों में ले जाता है। "
    आध्यात्मिक अनुशासन की कई प्रणालियों में भक्ति एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। उदाहरण के लिए, पतंजलि के शास्त्रीय योग में, भगवान की भक्ति पैदा करना, जिसे ईश्वर प्राणधान कहा जाता है, गलत संज्ञानों पर काबू पाने और ध्यान के गहरे स्तर को प्राप्त करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। हिंदू धर्म में, भगवान के प्रति भक्ति, गायन, चिंतन और भक्ति समारोहों के माध्यम से घर पर निजी रूप से पैदा की जा सकती है। इन गतिविधियों को अन्य भक्तों के साथ साझा करके भी मजबूत किया जा सकता है। मंदिर में इन प्रथाओं को पूरा करने की कोई आवश्यकता नहीं है।
    निष्कर्ष
    एसबीएनआर के लिए चुनौती परंपरागत दिशानिर्देशों के बिना महत्वपूर्ण आध्यात्मिक प्रगति करना है। कुंजी एक सिद्ध आध्यात्मिक मार्ग के आधार पर अपने स्वयं के व्यवस्थित दृष्टिकोण को तैयार करना है। और याद रखें, यात्रा का आनंद लें!


    The comments are owned by the author. We aren't responsible for their content.
    Copyright Himalayan Academy. All rights reserved.

    Get from the App Store Android app on Google Play